• तुम जिंदगी की वो कमी हो..

    जो जिंदगी भर रहेगी....!!

  • सारी दुनिया की खुशी अपनी जगह …,

    उन सबके बीच तेरी कमी अपनी जगह …..!

  • सोचते हैं जान अपनी उसे मुफ्त ही दे दें,

    इतने मासूम खरीदार से क्या लेना देना..!

Reload

welcome

Sms.TheOneBlogs.com
  • Main Menu
  • english
  • french
  • italian

Drop us a line...

Send Message

Break Up SMS

Advertisement
उसने महबूब ही तो बदला है फिर ताज्जुब कैसा;, दुआ कबूल ना हो तो लोग खुदा तक बदल लेते है..
कुछ मोहब्बत का नसा था पहले हमको फराज़, दिल जो टुटा तो नसे से मोहब्बत हो गयी..
मुझे किसी के बदल जाने का गम नही, बस कोई था, जिस पर खुद से ज्यादा भरोसा था..
डूबी हे मेरी उंगलिया खुद अपने लहू में , ये कांच के टुकडो को उठाने की सजा हे !
हम वफा की दुनिया के बादशाह हे और … हमारी रियासत में बेवफा को मुजरा करने की भी इजाजत नही मिलती, फिर चाहे वो रानी हो या राजकुमारी !
हसीन आँखों को पढ़ने का अभी तक शौक है मुझको, मुहब्बत में उजड़ कर भी मेरी ये आदत नहीं बदली..
लगाकर आग़ सीने में,कहाँ चले हो तुम हमदम, अभी तो राख़ उडने दो, तमाशा और भी होगा..
नहीं मिलेगा तुझे कोई हम सा, जा इजाजत है ज़माना आजमा ले..
तौहीन न करना कभी कह कर कड़वा शराब को, किसी ग़मजदा से पूछियेगा इसमें कितनी मिठास है..
एक उमर बीत चली है तुझे चाहते हुए, तू आज भी बेखबर है कल की तरह..
तेरी बेरुखी ने छीन ली है शरारतें मेरी.. और लोग समझते हैं कि मैं सुधर गया हूँ..
तुझे तो हमारी मोहब्बत ने मशहूर कर दिया बेवफ़ा.. वरना तू सुर्खियों में रहे तेरी इतनी औकात नहीं..
मुझे छोड़कर वो जिस शख्स के पास गयी, बराबरी का भी होता तो सब्र आ जाता..
कास के वो लोट आये मुझसे ये कहने, की तुम कोन होते हो मुझसे बिछड़ने वाले..
समझ न सके उन्हें हम, क्योकि हम प्यार के नशे में चूर थे, अब समझ में आया जिसपे हम जान लुटाते थे, वो दिल तोरने के लिए मशहूर थे..
गुजर गया वक्त जब हम तुम्हारे तल्बगार थे, अब जिंदगी बन जाओ तो भी हम कबूल नही करेंगे..
पत्थरों से प्यार किया नादान थे हम, गलती हुई क्योकि इंशान थे हम, आज जिन्हें नज़रें मिलाने में तकलीफ होती हैं, कभी उसी सक्स की जान थे हम..
ना मुस्कुराने को जी चाहता है; ना आंसू बहाने को जी चाहता है; लिखूं तो क्या लिखूं तेरी याद में; बस तेरे पास लौट आने को जी चाहता है।
आप हमारे लिए एक फूल है, जिसे तोड़ भी नहीं सकते और छोड़ भी नहीं सकते; क्योंकि तोड़ दिया तो मुरझा जाएगा; और छोड़ दिया तो कोई और ले जाएगा
दिल तो कहता है कि छोड़ जाऊं ये दुनियां हमेशा के लिए, फिर ख्याल आता है कि वो नफरत किस से करेंगे मेरे चले जाने के बाद।
धोखा दिया था जब तूने मुझे,जिंदगी से मैं नाराज था, सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं, मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था..
दिल टूटा तो एक आवाज आई, चीर के देखा तो कुछ चीज निकल आई, सोचा क्या होगा इस खाली दिल में, लहू से धो कर देखा, तो तेरी तस्वीर निकल आई
वो मुझे भूल ही गया होगा, इतनी मुदत कोई खफा नहीं रहता..
मुझे मालूम है मैं उसके बिना जी नहीं सकती; उसका भी यही हाल है मगर किसी और के लिये
तेरी बेवफाई ने मेरा ये हाल कर दिया है; मैं नहीं रोती, लोग मुझे देख कर रोते हैं..
वो जिसे समझती थी ज़िन्दगी, मेरी धड्कनों का फरेब था; मुझे मुस्कुराना सिखा के, वो मेरी रूह तक रुला गयी
अगर दुनिया में जीने की चाहत ना होती; तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती; लोग मरने की आरज़ू ना करते; अगर मोहब्बत में बेवाफ़ाई ना होती!
जनाजा मेरा उठ रहा था, फिर भी तकलीफ थी उसे आने में, बेवफा घर में बैठी पूछ रही थी, और कितनी देर है दफनाने में..
इतनी मुश्किल भी ना थी राह मेरी मोहब्बत की, कुछ ज़माना खिलाफ हुआ, कुछ वो बेवफा हो गए..
मैं फ़ना हो गया अफ़सोस वो बदला भी नहीं; मेरी चाहतों से भी अच्छी रही नफरत उसकी..
समेट कर ले जाओ अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से, अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर इनकी ज़रूरत पड़ेगी..
क्या ज़रूरत थी दूर जाने की, पास रहकर भी तो तड़पा सकते थ..
बहुत तड़पाया है किसी की बेबस यादों ने; ऐ ज़िंदगी खत्म हो जा, अब और तड़पा नहीं जाता
जिस पर हम मर मिटे, उसने हमें मिटा दिया, वाह क्या खूब उसने मोहब्बत का सिला दिया..
ऐ दिल थोड़ी सी हिम्मत कर ना यार, दोनों मिल कर उसे भूल जाते है,,
तुम तो मुझे रुलाकर दूर चले गये.. मै किससे पूछूँ मेरी खता क्या है..
टूटता हुआ तारा सबकी दुआ पूरी करता है, क्यों के उसे टूटने का दर्द मालूम होता है..
हम शराब नही पीते लेकिन शराबी दोस्त रखते है.. कयुंकी शराबी दोस्त अच्छे होते है ग्लास जरूर तोड़ते हैं लेकिन दिल नही..
तन्हाइयों का दिल में एक काफिला हुआ , तेरे मेरे दरम्यान जब ये फासला हुआ..
जिंदा हूँ तब तक तो हालचाल पुछ लिया करो.. मरने के बाद हम भी आजाद तुम भी आजाद..
हम चाह्ते तो कब से उसे मना लेते दोस्तों.. मगर वो रूठा नहीं हे, बदल गया हे..
याद हैं मुझे आज भी उसके आखिरी अल्फ़ाज़, जी सको तो जी लेना वरना मर जाओ तो बेहतर है..
तेरी तलाश में निकलू भी तो कैसे तू बदल गया है.. बिछड़ा होता तो और बात होती..
कोशिशें जब भी करता हूँ उनको भुलाने के लिए, वो ख्वाबों में चले आते हैं मुझको सताने के लिए..
कबका छोड़ दिया हमने लोगों के पीछे चलना, जिससे जितनी मोहब्बत की उसने उतना गिरा हुआ समझा हमें..
नहीं हो सकती मोहब्बत अब तेरे सिवाय किसी और से, बस इतनी सी बात है और एक तुम हो के समझतेही नहीं..
इस से ज्यादा और क्या सजा दू मैं अपने आप को, ये काफ़ी है कि मैं तेरे बिन रहने लगी हूं..
खता इतनी थी कि उनको पाने की कोशिश की, अगर छिनने की कोशिश करते तो बेशक वो हमारे होते..
बहुत दिनों से ख्वाहिश हैं कि किसी दिन वो आए और कहे, बंद करो ये रोना, लो लौट आया मैं तुम्हारे लिए..
ढूँढ रहे हो मुझसे दूर जाने के बहाने सोचता हूँ, दुनिया छोड़ कर तेरी मुश्किल आसान कर दूँ..
Advertisement