• तुम जिंदगी की वो कमी हो..

    जो जिंदगी भर रहेगी....!!

  • सारी दुनिया की खुशी अपनी जगह …,

    उन सबके बीच तेरी कमी अपनी जगह …..!

  • सोचते हैं जान अपनी उसे मुफ्त ही दे दें,

    इतने मासूम खरीदार से क्या लेना देना..!

Reload

welcome

Sms.TheOneBlogs.com
  • Main Menu
  • english
  • french
  • italian

Drop us a line...

Send Message

Hindi Status

Advertisement
हम भी वही होते हैं, रिश्ते भी वही होते हैं और रास्ते भी वही होते हैं, बदलता है तो बस समय, एहसास और नज़रिया.
जिस दिन मरोगे अपने साथ एक पेड़ भी लेकर जलोगे प्रकृति का जो कर्ज है वो तो चुका दो यारों जीतेजी एक पेड़ तो लगा दो यारों.
जब तू दाँतो मे क्लिप दबा कर, खुले बाल बांधती है! कसम से एक बार तो जिंदगी, वही रुक जाती है..
बस इतनी सी बात पे हमारी लड़ाई हो गई.. उसने कहा मैं "आप" को पसंद करती हूँ और मैं "बीजेपी" को.
सख़्त हाथों से भी, छूट जाती हैं कभी उंगलियाँ रिश्ते ज़ोर से नही, तमीज़ से थामे जाते हैं.
एक खूबसूरत एहसास बेआवाज हो गया इश्क अब इश्क ना रहा जैसे रिवाज हो गया.
अब उठती नहीं हैं आँखें, किसी और की तरफ पाबन्द कर गयीं हैं शायद, किसी की नज़रें मुझे.
साथ नहीं रहने से रिश्ते नहीं टूटा करते वक़्त की धुंध से लम्हे नहीं टूटा करते हैं लोग कहते हैं कि मेरा सपना टूट गया टूटती सिर्फ नींद है, सपने कभी टूटा नहीं करते.
वही ज़िद्द वही हसरत ना दर्द-ए-दिल में कमी हुई, अजीब है मेरी मोहब्बत भी ना मिल सकी ना ख़त्म हुई।
कहने को लोहे की ज़ंजीर सी थीमोहब्बत की कहानी आज इज़्ज़त के धागे के आड़े दम तोड़ गयी|
वो लोग भी अजनबी हो गये जो कभी कहते थे की उन्हें हमारी आदत सी हो गयी.
शतरंज का एक नियम, बहुत ही उम्दा है कि. चाल कोई भी चलो पर, अपनों को नहीं मार सकते.
बस अब मुर्दा समझ कर रो लो तुम कि अब जिंदा भी हूँ तो तेरे लिए नही.
बहुत अलग सा है मेरे इश्क का हाल, तेरी एक खामोशी और मेरे लाखों सवाल.
हर फ़िक्र से आज़ाद होते थे और खुशियाँ इक़ट्ठी होती थीं, वो दिन भी थे, जब अपनी भी गर्मियों की छुट्टी होती थीं.
इन होंठो की भी न जाने क्या मजबूरी होती है, वही बात छुपाते हैं जो कहनी जरुरी होती है!
मजबूरियाँ थी उनकी और जुदा हम हुए तब भी कहती है वो कि बेवफा हम हुए.
बहोत ऐहसान है हम पे तुम्हारे, एक और कर देते होकर हमारे.
वक्त से पूँछकर बताना ज़रा, जख्म क्या वाकई भर जाता है.
खुश नसीब होते हैं वो लोग जिनके दोस्त कहते हैं, की परेशान मत हो मैं हूँ ना तुम्हारे साथ.
अलफ़ाज़ नही बचे अब सबकुछ लिख चुका हूँ, शायद मोहब्बत के खातिर पूरी तरह बिक चुका हूँ.
मुझको छोड़ने की वजह तो बता देते, मुझसे नाराज थे या मुझ जैसे हजारों थे.
यूँ तो गलत नहीं होते अंदाज चेहरों के लेकिन लोग वैसे भी नहीं होते जैसे नजर आते हैं.
मिली है अगर जिंदगी तो मिसाल बन कर दिखा दो, वर्ना इतिहास के पन्ने आजकल रिश्वत देकर भी छपते है.
कागज में लिपटी रोटियां मै खाऊ भी तो कैसे, जवानो के खून से लथपथ आते है अख़बार आजकल.
सुना है गुगल पर सबकुछ मिलता है, चलो कुछ बिखरे रिश्ते सर्च करते हैं.
तूझे भुला कर हम करे भी तो क्या इकलौता शौक है तू मेरी जिंदगी का!
"शब्द" मुफ्त में मिलते हैं' लेकिन उनके चयन पर निर्भर करता है, कि उसकी कीमत "मिलेगी" या "चुकानी" पड़ेगी.
एक हमारे दिल का सुकून और एक तुम दोनों कहाँ रहते हो मिलते ही नही हो.
बहोत मुश्किल से मिलता है वो एक दिल, जो सच में मोहब्बत निभाने वाला हो.
रिश्ते आजकल रोटी की तरह हो गए जरा सी आंच तेज क्या हुई जल भुनकर खाक हो गए।
टूट जाता है गरीबी मे वो रिश्ता जो खास होता है, हजारो यार बनते है जब पैसा पास होता है।
जल्द मिलने वाली चीजे ज्यादा दिन तक नही चलती और जो चीजे ज्यादा दिन तक चलती है वो जल्दी नही मिलती.
ईश्वर से कुछ मांगने पर न मिले तो उससे नाराज ना होना क्योकि ईश्वर वह नही देता जो आपको अच्छा लगता है बल्कि वह देता है जो आपके लिए अच्छा होता है।
लगातार हो रही असफलफताओ से निराश नही होना चाहिए क्योकीं कभी-कभी गुच्छे की आखिरी चाबी भी ताला खोल देती है।
बचपन से अच्छा बनने का शौक था । बचपन खतम शौक खतम.
Advertisement